जय बोलो जय हनुमान की लिरिक्स – सुरेश वाडकर

हनुमान जी का मनमोहक भजन जय बोलो जय हनुमान की लिरिक्स लिंक लाया हूँ जिसके गायक Suresh Wadkar है। जय बोलो जय हनुमान की भजन के लेखक अभिलाष है।

जय बोलो जय हनुमान की लिरिक्स

जय बोलो जय बोलो जय हनुमान की
संकट मोचन करुणा दया निधान की
हनुमान की जय, विद्यावान की जय
शक्तिमान की जय, हनुमान की जय
जय बोलो जय बोलो जय हनुमान की
संकट मोचन करुणा दया निधान की

अहिरावण की भुजा उखाड़े
सुरसा इनसे हारी हो…
असुरों की वो सेना इनसे लड़के नर्क सिधारी
रोती थी जब राम विरह में
सीता जनक दुलारी
लंका जाऊ ने धीर बंधाया करके कौतुक भारी
जय बोलो जय बोलो जय हनुमान की
संकट मोचन करुणा दया निधान की
हनुमान की जय, विद्यावान की जय
शक्तिमान की जय, हनुमान की जय

मंगल कारी हनुमान जी
करते सबका मंगल हो
पाप का ताप मिटाके पल में
तन-मन करते शीतल
झूट-कपट का मैल मिटाकर
करते आत्मा निर्मल
रामचंद्र के भक्त बने ये
भाय न इनको चल-वल
जय बोलो जय बोलो जय हनुमान की
संकट मोचन करुणा दया निधान की
हनुमान की जय, विद्यावान की जय
शक्तिमान की जय, हनुमान की जय
जय बोलो…….
श्री राम जय राम जय जय राम…….

भजन डाउनलोड करे

आशा है आपको जय बोलो जय हनुमान की लिरिक्स पसंद आया हो अगर आपको लिरिक्स पसंद आयी तो कमेंट करके जरूर बताय और हमारी वेबसाइट नोटिफिकेशन ऑन कर ले ताकि जब भी हम आपके लिए हिंदी भजन लिरिक्स प्रस्तुत करे आप तक पहुंच सके। हम आपके लिए ऐसे ही सुन्दर सुन्दर भजन के बोल लाते रहेंगे। अगर आप भजन डाउनलोड करना चाहते है तो आप हमारी bhajanmp3download.com वेबसाइट में विजिट करे।

वीडियो देखे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *